Finluencer Md Nasir Baap of Chart’s Golden Syndicate Banned

WhatsApp Channel Join Now

Md Nasir ‘Baap Of Chart’ Banned From Market जिसने अपने ट्रेनिंग और एजुकेशन के नाम पर लोगों को बड़े मुनाफे दिलाने का आश्वासन दिया। इस ट्रेनर ने झूठे वादे करते हुए, निश्चित शेयर मार्किट से कमाई के दावे किये हुए थे, जिस कारण उसे बैन किया गया है। लोगों को कमाई के दावे करनेवाले इस Finluencer के खुदके बड़े नुक्सान चल रहे हैं।

SEBI order to Ban ‘Baap Of Chart’ Md Nasiruddin Ansari Market

फिन्लूएंसर ‘बाप ऑफ चार्ट’ मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी गोल्डन सिंडिकेट (Finluencer Md Nasiruddin Ansari Baap of Chart’s Golden Syndicate) ने खुद ₹3 करोड़ का नुक्सान भुगद रहे हैं।

यह नुक्सान जवारी 2021 से लेकर जुलाई 2023 के दरमियान ढाई वर्ष में हुआ है, जिस वक़्त वे खुद मुनाफों के दावों के साथ लोगों को ट्रेनिंग का काम कर रहे थे। सेबी ने बुधवार को इंटरिम आर्डर दिया, जिसमें मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी और उनसे जुड़े व्यवसायों को किसी भी प्रकार से शेयर मार्किट के लेन देन करने की अनुमति नहीं दी है।

WhatsApp Channel Join Now

फिन्लूएंसर ‘बाप ऑफ चार्ट’ मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी गोल्डन सिंडिकेट (Finluencer Md Nasiruddin Ansari Baap of Chart’s Golden Syndicate) सोशल मीडिया पर “Baap of Chart” के नाम से लोगों से पैसे लेकर उन्हें सिखाने के दावों में अवास्तविक परिणाम के लालच बताये हैं ।

जांच के मुताबिक यह भी बताया गया है कि 10 में से 9 लोग शेयर मार्किट ट्रेडिंग में पैसे गवाते हैं । ऐसे में इस तरह के चलन से काम करनेवालों को SEBI अपने नियमों के तहत ठीक करने कि प्रक्रियाओं को जारी करेगी।

‘बाप ऑफ चार्ट’ मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी पर बैन क्यों?

मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी ‘बाप ऑफ चार्ट’ के माध्यम से 2 से 3 गुना मुनाफे करवाने के लिए लोगों को आश्वासित करते थे। वे खुद अपने पोर्टफोलियो में ₹2,89,60,828.02 का नुक्सान झेल रहे थे। इनके वीडियो और वर्कशॉप ग्रुप के सञ्चालन में काफी अंतर् है, इसलिए उनपर रोक लगाते हुए आर्डर दिए गए हैं।

‘बाप ऑफ चार्ट’ मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी पर बैन करने के साथ साथ उन्हें ₹ 17.2 करोड़ रूपए का रिफंड करने का हुक्म भी दिया गया है, जो उन्होंने लोगो से लिए हैं।

उन्होंने जो झूठी प्रक्रिया से लोगो को एजुकेशन देकर ट्रेनिंग के दावों के साथ मार्किट ट्रेडिंग के लिए पैसे लिए हैं, वे सभी गलत और अनिर्धारित आउटपुट को हेरफेर करते हुए लिए थे। सारी जांच के बाद कानूनी निर्णयों को भी अमल किया जायेगा।

Must Read:

WhatsApp Channel Join Now

Mamaearth Parent Company Honasa Consumer Limited IPO News

Shark Tank India’s Namita Thapar Shared 5 Time Growth In Sales of Cloudworx Season 2 Startup

Mamaearth To Launch IPO on Oct 31 at Rs 10,700 Cr Valuation: Listing Date, Price Band, Other Details

Conclusion

गोल्डन सिंडिकेट, ‘बाप ऑफ चार्ट’ – मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी की कंपनी है। वे निर्देशक के रूप में लोगों को ट्रेडिंग करने का अवास्तविक लक्ष्य और आशाओं के साथ ट्रेनिंग देने का काम करते थे।

SEBI के जांच पर जब यह सब बातचीत सामने आई, तो फीस के रूप में निवेशकों से इकट्ठा किया गया पैसा जिस खाते में जमा किये गए थे उनपर प्रतिबन्ध जारी कर दिए गए। इस जानकारियों को हमनें इंटरनेट के माध्यम से प्रसरित किया है, इसलिए बातचीत के वजह से अगर आपके को मुख्य निर्णय निर्भर हो, तो आप जांच करने के बाद ही निर्णय लें।

Loading poll ...

Leave a Comment

Top 6 Indian Cities With Highest Number of Billionaires List: All 6 New Judges of Shark Tank India Season 3 Shark Tank India New Judge: Who is Radhika Gupta? 10 Startups Backed By Ranveer Singh And Deepika Padukone Honasa Consumer’s IPO – Highlights, Offer Size, Objects