Woloo Shark Tank India Business Complete Review

Shark Tank India Episode 35 Woloo Business एक टेक्नोलॉजी के साथ अपने Consumer Analyst Experience को जोड़कर Purpose Driven Business को शार्क टैंक इंडिया के मंच पर पेश करते हैं। एक पिता के दर्द से बने हुए ये नए बिज़नेस न केवल सिर्फ बिज़नेस के लिए बनाया गया, एक ऐसी प्रॉब्लम के लिए बना जिसके लिए सभी शार्क ने भी अपनी सहमति बतायी।

सबके लिए इतनी महत्त्वपूर्ण सुविधा जो के हर किसी को हर रोज जरुरी लगता है, इसमें छिपे Market Gap को पूरा करने Business idea के साथ Technical App के साथ जोड़ता Aggregation Model पर शार्क के साथ हुए विचार विमर्श के साथ बिज़नेस दृश्टिकोण से अलग अलग जानकारी को हमनें अध्ययन करने आसान भाषा में पेश करने का प्रयास किया है। हमनें बिज़नेस आईडिया की प्रस्तावना के बाद शार्क के अमूल्य बिज़नेस रिव्यु को विभाजन करके खुद भी समझा है और बिज़नेस में से सीखी बातो को हिंदी में लिखकर हिंदी भाषिये भारतीय के लिए बातो को समझाने के दृष्टिकोण से सब मुद्दों को लिखा है।

Index | अनुक्रमणिका Show

Shark Tank India Season 1 Episode 35 Business Pitching

दो भारतीय नारी के साथ भारतीय नारी के ख़याल से बना बिज़नेस वुलू शार्क टैंक इंडिया के आखरी हफ्ते में लू करने की समस्या पर अनोखा बिज़नेस पेश करते हैं। प्रॉब्लम के लिए सभी शार्क की सहमति मिलती है और Business Solution पर लाखो रुपये कमा लेनेवाले इस बिज़नेस के साथ व्यापारी विचारों से क्या चर्चा होती है, इसको क्रम में सजाकर समझेंगे हैं। हम मुद्दों को एक रूप रेखा में डालेंगे जिससे आप भी हमारे साथ इसकी सूची बनाकर अपनी सीख को अपने लिए जमाकर रख सके।

Woloo Shark Tank India Business Complete Review
Shark Tank India Season 1 Episode 35 Business Pitching

Shark Tank India Season 1 Episode 35 Business Name – वुलू (Woloo)

Shark Tank India Season 1 Woloo Business Pitcher

  • सुप्रीत कौर शाह (Supreet kaur shah)
  • मनीष कॅल्शिकर (Manish Kelshikar)
  • रुपाली कॅल्शिकर (Rupali Kelshikar)
Woloo Shark Tank India Business Complete Review
Shark Tank India Season 1 Episode 35 Business Name – वुलू (Woloo)

Shark Tank India Woloo Business Idea & Business Market

बिज़नेस पिचर ने प्रस्तावना में भारत का व्यवहारिक सत्य और हर किसीके के प्रॉब्लम के बारे में बताया। पिचर ने बताया की हर नारी घर से बहार जाने के पहले बाकी कुछ करे या न करे, टॉयलेट जाकर ही बहार निकलती है। हर किसी को यह भरोसा नहीं के वे जहाँ जायेंगे वहाँ उन्हें साफ़ सुथरा टॉयलेट मिलेगा या नहीं।

इस प्रस्तावना के साथ आगे बढ़ते हुए बिज़नेस पिचर मनीष ने अपने अनुभव को जताया के एक आदमी को एक औरत का दर्द समझ आता है, जब वह बाप बनता है। उनके खुदके जीवन में ऐसे काल आया जहाँ उन्हें लगा के हम अपने आपनेवाली पीढ़ी को साफ़ और प्रतीक सुविधा तुल्य टॉयलेट प्रदान नहीं कर सकते।

इस विहार के विस्तार से Basic hygiene dignity frustration से परिवर्तन के लिए Woloo – a loo discovery platform से revolution की पहल की है। इसकी सहायता से ग्राहक Tech Enabled Application द्वारा अपने आस पास के शौचालय (Toilet) का पता लगा सकते हैं। यह आपको वहाँ तक पहुंचने डिजिटल मैप की सुविधा से भी जोड़ता है।

Woloo Shark Tank India Business Complete Review
Shark Tank India Woloo Business Idea & Business Market

यह Aggregation Model इस्तेमाल करता है। यह दूसरे बिज़नेस के साथ Shared Economy का उपयोग करता है, जो इस बिज़नेस को Asset Light बनाता है। इस कारण से यह बहुत ही स्केलेबल (scalable) और किफायती बन जाता है।

यह बिज़नेस A grade restaurant को उसके hygiene और Safety के लिए certify करते हैं। वुलू (Woloo) के पास मुंबई (Mumbai) में 1200 सर्टिफाइड रेस्टोरेंट (Certified Restaurant) हैं। इस तरह से वुलू का विस्तार कैफ जगह हो चूका है, और प्राथमिक कठिनाई को लेकर इससे टॉयलेट की समस्या को सुखझाया जा सकता है।

गणित की बात करें तो वुलू (Woloo) सब्सक्रिप्शन बेस्ड बिज़नेस मॉडल (Subscription Based Business Model) है। इसके दाम हर आदमी के लिए किफायती है। इसके आलावा इनमें reward point की सेवा बनाई गयी है, जिससे ग्राहकों को और भी उत्पाद लेने पे छूट प्रदान की जाती है। ऐसे दो तरीको से कमाने के लिए बिज़नेस आईडिया को बनाया गया है। इस तरह बहुत कम पैसों में सबकी सामान्य और आवश्यक असुविधा को सुलझाया जा सकता है।

बिज़नेस पिचर सुप्रीत ने शार्क टैंक इंडिया के मंच पर वुलू (Woloo) का प्रदर्शन दिया। इसमें उन्होंने वुलू एप्लीकेशन (Woloo Application) का मोबाइल पे खोलकर इसके यूजर इंटरफ़ेस बताया । एप्लीकेशन को खोलने के बाद मंच के पत्ते को एप्लीकेशन ले लेता है और 2 किलोमीटर के रेडियस के 30 टॉयलेट को एप्लीकेशन बताता है।

एप्लीकेशन में यह भी बताया की टॉयलेट starbucks का है और उसकी rating क्या है। आप उस टॉयलेट का होस्ट क्लिक करके उसके मालिक का पता कर सकते है। साथ ही आपके जगह से उस टॉयलेट तक जाने के रास्ते को डिजिटल मैप से नेविगेट भी करता है।

यह भी पढ़ें:- Elcare Shark Tank India Complete Review

Shark Tank India Elcare Business Statistics

  • वुलू बिज़नेस कि निवेश मांग Woloo Business Ask – ₹50 lakhs for 4 % equity
  • वुलू कंपनी वैल्यूएशन (Woloo Business Company Valuation) – ₹12.5 crore
  • वुलू बिज़नेस सेल्स (Woloo Business Sales)

वुलू बिज़नेस सेल्स (Woloo Business Sales) प्राथमिक रूप में सब्सक्रिप्शन से होते हैं। इसका प्रति माह की किम्मत 99 रुपये (monthly subscription – ₹99) है। वुलू का वार्षिक सब्सक्रिप्शन की किम्मत 365 रुपये (annual subscription – ₹365) है। ग्राहक जितनी बार सब्सक्रिप्शन लेता , उसे उतने रुपये का reward point मिलता है।

Woloo Shark Tank India Business Complete Review
Shark Tank India Woloo Business Idea & Business Market

इनके पास अन्य स्रोत भी है, जिससे इन्हें मुनाफा होता है। इसमें यह उत्पाद को बेचते है और 20 प्रतिशत के रिवॉर्ड पॉइंट देते हैं। हर खरीदे में वे ऐसे रिवॉर्ड पॉइंट देते हैं, जिसे अगले खरीदी में इस्तेमाल कर सकते हैं। इस तरह से ग्राहक इनसे जुड़ा रहता है और उन्हें भी फ़ायदा मिलते रहता है।

वुलू के 12000 डौन्लोडस (downloads) हैं और 6000 पेड यूज़र (paid users) हैं। इनमें से 4000 एक्टिव यूज़र्स (Active Users), जो महीने में 5 से 7 बार ऐप्प यूज़ करते हैं। आंकड़ों की बात करें तो वुलू ने 23 लाख 3 महीने में कमाएं हैं। पिछले में महीने ने 9 लाख की कमाई की है।

Shark Tank India Woloo Business Mission

सभी महिलाओं के लिए स्वच्छता सुविधाएं आसानी से सुलभ कराना, जो सुरक्षित और स्वच्छ हैं।

Shark Tank India Elcare Business Sharks Business Expert Comments

शार्क टैंक इंडिया मंच की खासियत है, की बिज़नेस के साथ उसकी सारे अच्छे मुद्दे और कमियां भी देखने मिल जाती हैं। निवेश न भी मिले तो बिज़नेस इंटरप्रेन्योर कुछ न कुछ सीखकर जाते हैं। कार्यक्रम की रचना में एक और अच्छी बात है, की निवेश की बातो के साथ शार्क्स ने हर वाक्य के साथ उसके बिज़नेस कारण भी बताये हैं, जिससे बिज़नेस पिचेर्स और दर्शक सीख ले सकें।

शार्क नमिता थापर (Shark Namita Thappar) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

शार्क नमिता ने सराहना की, वुलू बड़ी प्रॉब्लम को सॉल्व करने चले हैं। इन्होंने यह भी देखा है कि स्टटिस्टिकली (Statistically) बहुत से युवा लड़कियाँ स्कूल छोड़ देती हैं, क्योंकि इन्हें साफ़ और इस्तेमाल के लायक टॉयलेट कि सुविधा नहीं मिल पाती है। शिक्षा जैसे प्राथमिक स्थल पर भी यह एक मुख्य असुविधा बनकर रहा है। लेकिन नमिता ने कहा कि, एक रेस्टोरेंट ओनर होने के नाते , इस तरह से सब लोग टॉयलेट इस्तेमाल करने लगे तो उन्हें तो यह बात सबसे बकवास लगेगी।

बिज़नेस पिचर मनीष (Business Pitcher Manish) ने इसपर अपने बिज़नेस कि तैयारी के बारे में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि वे एक कंस्यूमर एनालिस्ट (Consumer Analyst) हैं। इन्होंने ग्लोबल रिटेल इंडस्ट्री (Global Retail Industry), वालमार्ट यूनाइटेड स्टेट्स (Wall Mart US) और शोप्पेर्स स्टॉप (Shoppers Stop) में काम किया है। इन्होंने उसमे यह समझा है कि रिटेल बिज़नेस में ग्राहक का प्रवेश बहुत ही महत्त्वपूर्ण होता है। और इन्होंने यह भी देखा है कि 60 % रेस्टोरेंट (Restaurant) को Bad Review खराब खाने या माहौल (Bad Food and Bad Ambience) से नहीं मिलता। वह खराब टॉयलेट के वजह से bad review मिलता है।

यह ग्राहक का पहलु समझे तो रेस्टोरेंट ओनर (Restaurant Owner) के लिए टॉयलेट एक व्यापार के बाहर का खर्चा (Non Trading Cost Center) बन जाता है। और यही नहीं, यह सबके लिए उपलब्ध होनेवाला स्थल है, जिसके लिए कोई कमाई नहीं होती।

वुलू ग्राहकों को बिज़नेस तक लाने का काम कर रहा है। बिज़नेस के लिए यह एक तरीका बन जायेगा, के वह अच्छे टॉयलेट कि सेवा में मौजूद है और वे क्या बिज़नेस दे रहे हैं। वे वुलू हाइजीन टेक्नोलॉजी और प्रक्रिया (Woloo Hygiene Technology and Process) से इन सब रेस्टोरेंट को टॉयलेट को स्वच्छ बनाये रखने में मदद भी करते हैं। उन्हें वे Reward Point System में डालकर उन्हें फायदा दिलाते है, जिससे उन्हें इसपर कम खर्च होता है।

शार्क नमिता ने बिज़नेस के लिए प्राथमिक सेवा के लिए सवाल किया कि टॉयलेट का maintenance सबसे बड़ी समस्या है। ऐसे सेवा मॉडल (service model) में अगर Bad Review मिल जाए तो उससे बहुत हानि हो सकती है।

बिज़नेस पिचर मनीष इसके जवाब में समझाया कि जब होस्ट ऑन बोर्ड होता है, वुलू उसे ट्रैक करता है। टॉयलेट में एक Motion Sensing Toilet Seat दी जाती है जो वुलू के एफिलिएट पार्टनर (Affiliate Partner) द्वारा मुफ्त म प्रदा कि जाती है। और उस सीट में वुलू एक सेंसर लगाते हैं जो हर घंटे में बदबू कि मात्रा का पता कर सकता है। इस बदबू के लिए थ्रेसहोल्ड (threshold ) माने सीमा स्तर तय किया गया है।

यह स्तर अगर तीन बार पार हो जाता है तो वुलू उस टॉयलेट को हटा देते (Delist) हैं। इस तरह से सेवा के Bad review न मिलने लिए वुलू ने काफी तैयारी की है।

शार्क पीयूष बंसल (Shark Peyush Bansal) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

शार्क पीयूष ने वुलू की तैयारी पर शंका जताते हुए, उनके बिज़नेस की प्रक्रिया पर अपनी राय पेश की। उन्होंने मंतव्य दिया की इस तरह से टॉयलेट को डीलिस्ट करने से वुलू का एक टॉयलेट कम हो जायेगा।

अगर वुलू खुद उसका maintenance करे और उनसे चार्ज ले ले तो बिज़नेस का कोर प्रोपोज़िशन क्वालिटी (Core Proposition Quality) है, वो वुलू के हाथ रहेगा। अभी जिस सेवा की गारंटी बिज़नेस ले रहा है, वही उसके हाथ में न हो तो ऐसे बिज़नेस चलाने में निर्भरता रहेगी। शार्क पीयूष बंसल (Shark Peyush Bansal) ने स्पष्ट कहा की – “Problem is real but solution is complex” जिस कारण यह बिज़नेस विस्तार में दिक्क्त रहेगी।

शार्क अश्नीर ग्रोवर (Shark Ashneer Grover) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

शार्क ने निवेश से इंकार किया और कारण दिया की यह प्रॉब्लम को प्लेटफार्म लेवल पे वुलू ने अभीतक सुलझायी नहीं है। इन्होंने रिटेल लेवल पे करी है। लेकिन व्यवहारिक रूप से देखे तो Mcdonalds और Starbucks के टॉयलेट वैसे भी सबके लिए मुफ्त में मौजूद होते हैं। ऐसे में वुलू बिज़नेस की कमाई का साफ़ जरिया अभी मालूम नहीं हो पा रहा है।

शार्क विनीता सिंह (Shark Vineeta Singh) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

शार्क विनीता को भी कुछ मुद्दों के वजह से इस बिज़नेस में निवेश करने से दिक्क्त है। एक बात उन्हें अच्छी लगी की ग्राहक को जबरदस्ती कुछ नहीं खरीदना पड़ता है। वे निसंकोच टॉयलेट फ्री में इस्तेमला कर सकते हैं। एक तरह से इस बिज़नेस मॉडल के वजह से टॉयलेट की व्यवस्था करनेवाले को सीधे पैसे चुकाने का अवसर इस बिज़नेस से मिल पायेगा। लेकिन इस वक़्त ग्राहकों को इस खीचाव में ढालने में वक़्त है और बिज़नेस निवेश के काबिल नहीं है।

शार्क अमन गुप्ता (Shark Aman Gupta) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

शार्क ने कहा की 2 model हो सकते हैं। एक मॉडल है जो वाशरूम लोकेटर (Washroom Locator) है। लेकिन वह सही बिज़नेस आईडिया नहीं क्योंकि गूगल से बढ़िया ये काम कोई नहीं कर पायेगा। दूसरा मॉडल है वो है सर्टिफाइड वाशरूम एजेंसी (Certified Washroom Agency) का है। शार्क अमन के हिसाब वो मॉडल वुलू की बातो में से उनका Core Business की तरह उभरकर नहीं आ रहा है । लेकिन प्रॉब्लम असली है, इसलिए बिज़नेस पिचर को सुभेच्छा देते हैं।

शार्क ग़ज़ल अलघ (Shark Ghazal Alagh) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

सभी कारण को शार्क ने दिए, शार्क ग़ज़ल अलघ (Shark Ghazal Alagh) भी अभी निवेश नहीं करना चाहती। लेकिन प्रॉब्लम बहुतही वास्तविक और बड़ी है, इसलिए इसपर कार्यरत रहने की सलाह देती हैं।

शार्क अनुपम मित्तल (Shark Anupam Mittal) बिज़नेस एक्सपर्ट कमेंट (Business Expert Comments)

शार्क अनुपम मित्तल (Shark Anupam Mittal) ने बतलाया की बिज़नेस नहीं बन पायेगा। इसका कारण है की जैसे जैसे google maps और zomato – और उपयोगिता (more utilitarian) बनते जा रहे हैं और जैसे रोज के सेवा प्रस्तुत करते जा रहे हैं, जैसे पेट्रोल पंप है ये है वो है। ऐसे बड़े बिज़नेस में एक अपने आप टॉयलेट रेटिंग शुरू कर देगा। इस कारण वे भी निवेश नहीं कर पाएंगे।

Final Deal Summary

सभी शार्क के कमेंट के बाद वे निवेश से बाहर हो जाते हैं। सिर्फ शार्क नमिता थापर (Shark Namita Thappar) उन्हें काउंटर ऑफर देती हैं। उनकी मांग जो ₹50 lakhs for 4 % equity की थी, उससे काफी अधिक वैल्यू पर उन्हें 25 lakh for 10 percent equity और 25 lakh for debt @12 percent interest का काउंटर ऑफर देती है।

इस हिसाब में ₹2.5 crore वैल्यूएशन होता है। बुसिनेस पिचर विचार विमर्श करते हुए ,Counter Offer को Counter Offer देते हैं – ₹35 lakh for 6 percent Equity and no debt, क्योंकि वे डेब्ट लोन नहीं लेना चाहते। आखिर में शार्क और बिज़नेस पिचर को आकड़ो का तालमेल नहीं लगता और कोई डील नहीं होती है।

Woloo Shark Tank India Episode 35

Conclusion

Shark Tank India Episode 35 Woloo Business के सभी दृष्टिकोण से हमनें बातें की। सभी शार्क प्रॉब्लम से इतना जुड़ जाते हैं। लेकिन शार्क ने बिज़नेस के व्यवहारिक नजरिये में आनेवाली दिक्क्त के बारे में बताया है। इन सभी कारन पर सुधार के बारे में भी सुझाव शार्क ने पेश किये हैं। निवेश न मिलने पर भी, बिज़नेस आज मुनाफा कर रही है। ऐसे में विस्तार करते हुए, वे उनके सुझाव पर आंकलन करते हुए सुधार कर सकते हैं।

Shark Tank India Episode 35 Woloo Business Review में आपके अपने बिज़नेस कमेंट होंगे। LinkedIn Community में जुड़कर आप इसकी चर्चा का विस्तार कर सकते हैं। बिज़नेस लेसन के सीख़ के साथ यह सब प्रैक्टिकल बातों की सूची बनाकर आनेवाले मौके में अपने बिज़नेस में इन गलतियों से बच सकेंग। इन सब चर्चा से बड़े बिज़नेस बनाते हुए बड़े विचारों को जगह दे पाएंगे। हमारी उम्मीद है की हिंदी में इन विषयों को जिस तरह से हम पेश करने की मेहनत ले रहे हैं, वो भारत के कोने कोने से बिज़नेस का फितूर रखनेवाले की सहायता कर रहा होगा। आपकी सराहना और सुझाव को हम गौर करते हुए नए नए तरीके बिज़नेस रिव्यु और पोस्ट बनाने का प्रयास करते रहेंगे।

अन्य पढे:

Shark Tank India Fifth Week Businesses Summary

SKU Full Form|Stock Keeping Unit Meaning, Example In Hindi

How To Think Big For Business Growth ? By Anupam Mittal

Leave a Comment